राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना 2022 | Rajiv Gandhi Krishak Sathi Sahayata Yojana ke liye aavedan kaise kare

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Rajiv Gandhi Krishak Sathi Sahayata Yojana ke liye aavedan kaise kare : सबको वेलकम , राजस्थान सरकार ने राजस्थान के किसानों की मदद के लिए बहुत कुछ किया है। किसानों को उनकी आय ज्यादा बरने के लिए विभिन्न सहायता दी गई है। आज हम किसानों के लिए सबसे महत्वपूर्ण जानकारी लेकर आए हैं, ज्यादातर किसान इस योजना के बारे में नहीं जानते हैं, इसलिए हम आपको इसके बारे में पूरी जानकारी देंगे .

Table of Contents

वर्तमान में, यह राजस्थान राज्य के प्रत्येक किसान के लिए एक लाभकारी योजना है। कृषि कार्य के दौरान कई बार दुर्घटनाएं हो जाती हैं और उन दुर्घटनाओं के कारण लोगों की या तो मौत हो जाती है या काम करने की क्षमता चली जाती है, इन किसानों की मदद के लिए यह  राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना शुरू की गई है। 

देश के RGKSSY के तहत देश के किसान लाभान्वित होते हैं। कई खेतिहर मजदूर और किसान भी इस योजना का लाभ उठा रहे हैं। यदि आप राजस्थान के निवासी हैं, तो आपको  राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना के लिए पात्र होना चाहिए। 

यदि आप  राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना का विवरण नहीं जानते हैं तो इस लेख को ध्यान से पढ़ें। इस लेख को पढ़कर आप फायदे, नुकसान, आवेदन कैसे करें और भी बहुत कुछ जानेंगे

जब से नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने हैं, किसानों की सुविधा के लिए इस तरह की विभिन्न वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए समय-समय पर सरकारी योजनाओं को लागू किया गया है। ताकि किसानों का मनोबल बराबर रहे और कृषि गतिविधियों के विकास को बढ़ावा मिले।

योजना का नाम

 राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना

राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना क्या है

“राजस्थान सरकार कृषक साथी योजना” जो 30 अगस्त 1994 को शुरू हुई थी पर इसका नाम बदलकर “किसान जीवन कल्याण योजना 22 दिसंबर 2004 को रखा गया कर दिया गया और बाद में 9 दिसंबर 2009 को योजना का नाम बदलकर “राजस्थान  राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना” कर दिया गया। 

इस योजना के तहत यदि किसान को खेत में काम करते समय या खेत से बाजार जाते समय या बाजार से लौटते समय या खेत में किसी जानवर द्वारा काट लिया जाता है या कोई दुर्घटना हो जाती है, तो ऐसी परिस्थितियों में किसान विकलांग हो जाता है या मृततु हो जाती है ऐसे उन लोगो को आर्थिक सहायता दी जाती है। लेकिन 5 हजार से 2 लाख तक की सहायता दी जाती है।

11 सितंबर, 2009 को इस योजना का दायरा किसानों के साथ-साथ कृषि को भी लाभान्वित करने के लिए बढ़ाया गया था। इसका मतलब है कि अब इस योजना के तहत खेतिहर मजदूर भी शामिल हैं। उन्हें भी किसानों के सभी लाभ मिलेंगे।देश के RGKSSY के तहत देश के किसानों को लाभ दिया जाता है।कई खेतिहर मजदूर भी इस योजना का लाभ उठा रहे हैं। 

What Is Rajiv Gandhi Krishak Sathi Sahayata Yojana 2022  

कुछ साल पहले भी जब किसान खेतों का दौरा करते थे तो वहां जानवरों का हमला देखा जाता था, जिससे किसानों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था। इस गड़बड़ी से किसानों को धीरे-धीरे काफी नुकसान हो रहा है। फिर 1994 में राजस्थान कृषक साथी योजना शुरू की गई, जिससे किसान परिवार को आर्थिक सहायता मिली।

राजस्थान के तहत बीमा के रूप में वित्तीय लाभ राजस्थान सरकार द्वारा उन किसानों को प्रदान किया जाता है जो कृषि में लगे हुए हैं और कृषि कार्य करते समय दुर्घटनाओं का सामना करते हैं। यह प्लान पहले से काफी बेहतर है। किसानों के लिए सरकार के पास एक अच्छी योजना है जिसमें किसानों को 5 हजार से 2 लाख तक का लाभ मिलता है।

 राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना जैसी कई योजनाएं हैं, लेकिन इन योजनाओं की जानकारी किसानों को नहीं हो पाती है, जिससे किसानों को लाभ नहीं मिल पाता है। आज हम आपको  राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना के लाभ, आवेदन पत्र और इन योजनाओं की पात्रता आदि के बारे में बताएंगे।

किसान साथी योजना 30 अगस्त 1994 को शुरू की गई थी। इस योजना में कुछ बदलाव भी हुए और 2004 में इस योजना को किसान जीवन कल्याण योजना के रूप में फिर से शुरू किया गया। किसान, फिर 22 दिसंबर 2004 को और फिर 09/12/2009 को उसी योजना का नाम बदलकर किसान जीवन कल्याण योजना कर दिया गया। मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना 2021 के तहत लगभग 7963 किसानों, खेतिहर मजदूरों और किसानों को ₹5000 से ₹2 लाख की आर्थिक सहायता दी गई है।

इस योजना का नाम बदलकर  राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना कर दिया गया है, राजस्थान सरकार ने 2023 के बजट में योजना का बजट 4000 करोड़ से अधिक कर दिया है, जिससे राजस्थान के किसानों को और अधिक लाभ होगा।

वे सभी किसान, खेत मजदूर, किसान जो कृषक साथी योजना 2022 का लाभ उठाना चाहते हैं, वे ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं, राजस्थान के कोरारस भी इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। यह योजना राजस्थान में किसानों के लिए एक लोकप्रिय लाभ योजना है, जिसे सरकार द्वारा संचालित योजना के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। 

राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना overview

Scheme Nameराजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना  
Launched In      2022
Launched Byराजस्थान
Date 30 अगस्त 1994
Supervised By  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।
Last updated यह प्रोजेक्ट 22 दिसंबर 2004 और 09/12/2009 को अपडेट किया गया था। साथ ही वर्ष 2022 के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए हैं और राजस्थान सरकार ने 2023 में परियोजना के लिए बजट बढ़ा दिया है। 
Year of project implementation30 अगस्त 1994
Categoryराजस्थान सरकार के माध्यम से
Beneficiaryकोई किसान या खेतिहर मजदूर किसी भी तरह से खेत में काम कर रहा हो, खेत जाते समय, या बाजार जाते समय, यदि घायल व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो जाता है या काम करते समय उसकी मृत्यु हो जाती है, तो उसके परिवार को ₹5000 से ₹200000 तक की आर्थिक सहायता मिलेगी। सरकार द्वारा, परिस्थितियों के अनुसार। 
Purposeकिसानों की दुर्घटनाओं और मृत्यु के बाद परिवारों को सहायता प्रदान करने के लिए कृषक साथी साथी योजना शुरू की गई थी। 
Application procedureऑनलाइन या ऑफलाइन। 
Helpline Number0141 2227640  /  0141 2227115 
Email-Iddam.schemes@rajasthan.gov.in 
Official Websitehttps://rajkisan.rajasthan.gov.in/

राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना का प्लान

  1. राजीव गांधी कृषक साथी सुविधा योजना राजस्थान सरकार की किसानों और खेतिहर मजदूरों के लिए एक महत्वपूर्ण योजना है।
  2. इसे कृषि विपणन निदेशालय द्वारा 30 अगस्त 1994 को कृषक साथी योजना के नाम से शुरू किया गया था।
  3. 22 दिसंबर 2004 को योजना का नाम बदलकर किसान जीवन कल्याण योजना कर दिया गया।
  4. 09.12.2009 को योजना का नाम बदलकर  राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना कर दिया गया।
  5. राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना शुरू करने का उद्देश्य राज्य के उन किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान करना है जो दुर्घटना का सामना करता है।
  6. इस योजना के तहत मृत्यु के मामले में, सरकार द्वारा 2,00,000 / – रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।
  7. शर्त के आधार पर चोट या टूट-फूट के मामले में रु. 5,000/- से 50,000/- रुपये की सहायता प्रदान की जाएगी।
  8. पात्र व्यक्ति की आयु 14 वर्ष से 75 वर्ष के बीच होने पर ही उसे इस योजना के अंतर्गत पात्र माना जाएगा।
  9. इस योजना का नियामक निकाय राजस्थान राज्य कृषि विपणन बोर्ड है।

राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना का उद्देश्य

राजीव गांधी कृषक साथी साथी योजना 2022 का मुख्य उद्देश्य किसानों को कृषि कार्य करते समय या बाजार पहुंचते समय दुर्घटनावश अपंगता या मृत्यु होने की स्थिति में आर्थिक सहायता प्रदान करना है। सरकार इसे बीमा के रूप में मुहैया कराएगी। किसान की मृत्यु होने पर किसान के परिवार को ₹200000 की आर्थिक सहायता दी जाती है।

इसके अलावा, किसी चोट, या अंग-विच्छेद के मामले में, शर्त के आधार पर .5,000/- रु.50,000/- तक की सहायता प्रदान की जाएगी। 

Implementation of Rajiv Gandhi Krishak Sathi Support Yojana 2022 

कृषक साथी सहायता योजना 1994 से चल रही है। अब मार्केट कमेटी ने राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना लागू कर दी है। किसान की मृत्यु या किसी दुर्घटना के कारण किसान का हाथ या पैर कट जाने, खेत में काम करने के दौरान किसी जहरीले जानवर के काटने और किसान के बीमार होने पर किसान के परिवार को 2 लाख तक की सहायता दी जायेगी

मुख्यमंत्री कृषक साथी सहायता योजना के लिए आवेदन पत्र दुर्घटना होने के 6 महीना के अंदर नज़दीकी मण्डी समिति कार्यालय में जमा करना होगा।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

 यदि आप 6 महीने के बाद आवेदन करते हैं, तो आपको देरी के विशिष्ट कारण बताते हुए एक आवेदन जमा करना होगा।

इस अवधि को निदेशक द्वारा अधिकतम 3 माह और राज्य सरकार द्वारा 6 माह तक बढ़ाया जा सकता है। इसके बाद किए गए आवेदन रद्द माने जाएंगे। अब आप राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना 2022 के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं, इसके लिए नीचे लेख में बताया गया है।

राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना की विशेषताएं

  1. आवेदन दुर्घटना या मृत्यु की तारीख से 6 महीने के अंदर आवेदन किया जाना चाहिए।
  2. अगर आपको आवेदन करने में देरी हुई है तो आप इसे ६ महीने के बाद भी आवेदन कर सकते है.
  3. दुर्घटना या मृत्यु के 15 महीने बाद किसी भी परिस्थिति में कोई आवेदन स्वीकार नहीं किया जाएगा।
  4. 75 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति इस योजना के पात्र नहीं होंगे।
  5. सांप के काटने या किसी जहरीले जानवर के काटने से मौत होने की स्थिति में प्राथमिकी के बदले पंचनामा और सरकारी चिकित्सा प्रमाण पत्र भी मान्य होगा।
  6. राजस्थान  राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजनान्तर्गत बाजार में कुआं खोदने, नलकूप से सिंचाई करने, बिजली के तारों से करंट लगने, भूमि पर रसायन छिड़कने के दौरान मृत्यु या दुर्घटना होने की स्थिति में कृषि में लगे किसानों को इस योजना का लाभ मिलेगा। 
  7. लाभ राशि का भुगतान लाभार्थी के खाते में चेक या डिमांड ड्राफ्ट के रूप में किया जाएगा।
  8. कृषक साथी बीमा योजना के तहत कृषि कार्य के दौरान पेड़ काटते समय बिजली गिरने से दुर्घटना, मृत्यु या अपंगता की स्थिति में लाभ दिया जाएगा।
  9. राजस्थान कृषक साथी योजना 2022 के तहत बस दुर्घटना में मृत्यु होने पर आपको थाने में FIR दर्ज करानी होगी और फिर पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के आधार पर सहायता मिलेगी।
  10. दुर्घटना की दशा में जिस अस्पताल में उपचार किया गया था, उस अस्पताल के डॉक्टर की रिपोर्ट, उपचार पर्ची आदि दिखानी चाहिए।

राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना का लाभ

  1. राजीव गांधी किसान साथी सहायता योजना का लाभ लेकर किसान चोट लगने की स्थिति में अपना इलाज करा सकते हैं।
  2. किसानों को खेत में बुवाई के समय बिच्छू या अन्य कीड़ों के हमले, पानी के बोरिंग के कारण करंट लगने या बाजार जाते समय किसी भी प्रकार की सड़क दुर्घटना जैसी विभिन्न समस्याओं का सामना करना पड़ता था, इन सभी दुर्घटनाओं से इस परियोजना के तहत राहत मिल रही है। .
  3. खेती एक बहुत ही कठिन काम है जहां दुर्घटनाओं के कारण चोट लगने या मृत्यु होने की संभावना होती है, लेकिन सरकार इस योजना के माध्यम से किसानों के काम की रक्षा करने की कोशिश कर रही है।
  4. इस योजना के माध्यम से किसानों को सरकार की ओर से ₹5000 से लेकर ₹200000 तक की आर्थिक सहायता दी जाती है जिसका उपयोग वे अपनी सुविधानुसार कर सकते हैं।
  5. इस योजना के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए किसान की मृत्यु के मामले में दुर्घटना के लिए एक FIR और इस के अलावा पोस्टमार्टम रिपोर्ट की आवश्यकता होती है।
  6. आकस्मिक मृत्यु के मामले में, FIR की प्रति पोस्टमार्टम रिपोर्ट के साथ बाजार समिति को प्रस्तुत की जानी चाहिए। इसके बाद अगला कदम उठाए
  7. घटना की सच्चाई जानने के बाद किसान परिवार को मदद मिलेगी

राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना में किसे लाभ मिलेगा

राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना के तहत, सरकार किसानों और कृषि में लगे लोगों को आर्थिक सहायता प्रदान करेगी।

PositionRelief Fund
आकस्मिक मृत्यु के मामले में2,00,000/-  
अगर शरीर किसी अंगो का कट जाना मतलब काट के अलग हो जाये तो50,000/-  
सिर की चोट या रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर या फिर  कोमा50,000/-  
स्कैल्प को डी-स्कैल्प करने के बाद40,000/-  
खोपड़ी का आंशिक डी-स्केलिंग25,000/-  
  शरीर का कोई भी अंग फ्रैक्चर हो जाये तो25,000/-  
चार उंगलियों का कट जाना20,000/-  
तीन उंगलियों का कट जाना15,000/-  
दो उंगलियों का कट जाना10,000/-  
एक उंगलियों का कट जाना5,000/-  
श्रमिक के हृदय परिसर में कृषि/विपणन कार्य करते समयअगर कोई हड्डी टूट गई है10,000/-  
अंडकोष की समस्या25,000/-
दो अंडकोष का अलग होना40,000/-

राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना में किन घटनाओं पर लाभ मिलेगा

  1. कृषि मशीन का उपयोग करते समय मृत्यु या विकलांगता।
  2. सिंचाई के लिए कुएं खोदते या नलकूप लगाते समय।
  3. नलकूप चलाते समय उन्हें करंट लग गया तो ।
  4. मिट्टी पर रसायनों का छिड़काव करते समय।
  5. कृषि या कृषि कार्य करते समय जंगली/घरेलू/आवारा पशुओं द्वारा काटा या हमला किया जाना।
  6. बाजार या सरकारी खरीद केंद्र में कृषि यंत्रों का उपयोग करते समय।
  7. बाजार चौक में ट्रैक्टर ट्रॉली, बैलगाड़ी, भैंस, ऊंट गाड़ी पलट गई।
  8. कृषि उपज का परिवहन या बिक्री करते समय दुर्घटनाएं होती हैं।
  9. डी-स्केलिंग कतरनी मशीनों या कृषि मशीनरी के कारण होता है।
  10. यदि कृषि कार्य करते समय आकाशीय बिजली गिरती है।
  11. कृषि या कृषि विपणन में काम करते समय कशेरुकी फ्रैक्चर के मामले में।
  12. कृषि या कृषि विपणन में काम करते समय सिर में चोट लगने से कोमा।
  13. खेतों की रखवाली या जानवरों को चराते समय पेड़ों की छँटाई करते समय।
  14. खेत में गड्ढे या गड्ढे में डूबने से मौत।
  15. भूमि पर कटाई या कटाई के दौरान दुर्घटना होने की स्थिति में।
  16. खेत में कृषि कार्य करते समय वर्षा या चक्रवात के कारण दुर्घटनाएँ।

राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना में किन घटनाओं पर लाभ नहीं मिलेगा

  1. बीमारी के कारण मृत्यु या विकलांगता।
  2. आत्महत्या करने पर
  3. दवा लेने पर।
  4. चिकित्सा या ऑपरेशन के दौरान।
  5. मोटर वाहन कानूनों के उल्लंघन के कारण दुर्घटनाएं।
  6. गर्भावस्था या प्रसव के कारण।
  7. यदि दुर्घटना की तारीख और मृत्यु की तारीख के बीच 90 दिनों से अधिक का अंतर है।
  8. परमाणु या परमाणु हथियारों के कारण मौत।
  9. युद्ध, अंतर्ग्रहीय युद्ध या देशद्रोह में शामिल होने पर।

राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना का बजट

मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के तहत लगभग 7963 किसानों, मजदूरों और किसानों को लगभग 117 करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता दी गई है। किसानों या खेतिहर मजदूरों को किसी दुर्घटना या उससे होने वाली मौत की स्थिति में आर्थिक सहायता भी दी जाएगी। ₹5000 से ₹200000 तक सरकार की ओर से दिया जाएगा। इस योजना का नाम बदलकर  राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना कर दिया गया है, राजस्थान सरकार ने 2023 के बजट में योजना का बजट 4000 हजार करोड़ से अधिक कर दिया है, जिससे राजस्थान के किसानों को और अधिक लाभ होगा। वे सभी किसान, खेतिहर मजदूर, किसान जो कृषक साथी योजना 2022 का लाभ लेना चाहते हैं, वे ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। 

राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना का जरूरी तारीख

किसान साथी योजना 30 अगस्त 1994 को शुरू की गई थी इस योजना में भी कुछ बदलाव करने पड़े। बाद में 22 दिसंबर 2004 को योजना का नाम बदलकर किसान जीवन कल्याण योजना कर दिया गया। 11 सितंबर, 2009 को किसानों के साथ-साथ खेतिहर मजदूरों को लाभ पहुंचाने के लिए योजना का दायरा बढ़ाया गया। और फिर से 09/12/2009 को उसी प्रोजेक्ट का नाम बदल दिया गया। फिर वर्ष 2022 के लिए आवेदन आमंत्रित किए जाते हैं। आखिरकार राजस्थान सरकार ने 2023 के बजट में इस प्रोजेक्ट के लिए बजट बढ़ा दिया है।

                     आवेदन दुर्घटना या मृत्यु की तारीख से 6 महीने के भीतर प्रस्तुत किया जाना चाहिए। आवेदन विलंब के कारणों सहित 6 माह के बाद भी किया जा सकता है। साधनों को 6 महीने तक बढ़ाया जा सकता है। इसके बाद किया गया आवेदन रद्द माना जाएगा।

राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना का Eligibility Criteria

  1. राजस्थान के सभी किसान इस योजना के पात्र होंगे।
  2. कृषि कार्य करने वाले व्यक्ति/मजदूर पात्र होंगे।
  3. मंडी में कार्यरत हम्माल, पल्लेदार इस योजना के पात्र होंगे।
  4. पात्र व्यक्ति की उम्र 14 से 75 वर्ष के अंदर होनी चाहिए
  5. पात्र व्यक्ति राजस्थान राज्य का होना चाहिए।
  6. बीमा तभी दिया जाएगा जब लाभार्थी कृषि कार्य में लगा हो।
  7. दुर्घटना की दशा में जिस अस्पताल में उपचार किया गया था, उस अस्पताल के डॉक्टर की रिपोर्ट, उपचार पर्ची आदि दिखानी चाहिए।
  8. लाभ राशि का भुगतान लाभार्थी के खाते में चेक या डिमांड ड्राफ्ट के रूप में किया जाएगा।

राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना के महत्वपूर्ण दस्तावेज

  1. जनाधार कार्ड
  2. भामाशाह कार्ड।
  3. आधार कार्ड
  4. पासपोर्ट साइज चाबी
  5. राशन पत्रिका।
  6. आय प्रमाण पत्र।
  7. मोबाइल नंबर
  8. शपथ पत्र
  9. पुनर्विवाह प्रमाण पत्र।
  10. बैंक पासबुक की कॉपी।
  11. मृत्यु के मामले में अनिवार्य दस्तावेज।
  12. FIR पेपर।
  13. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट।
  14. मृत्यु प्रमाणपत्र
  15. दवा का बिल
  16. चोट के मामले में अनिवार्य दस्तावेज।
  17. सरकारी / निजी चिकित्सा अधिकारी का प्रमाण पत्र।
  18. चिकित्सा पर्ची।
  19. पंचनामा और मेडिकल पर्ची।
  20. डॉक्टर का प्रमाण पत्र। 

राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना के Online Portal

Rajiv Gandhi Krishak Sathi Sahayata Yojana ke liye aavedan kaise kare

Rajiv Gandhi Krishak Sathi Sahayata Yojana ke liye offline aavedan kaise kare   

  • आवेदक को आवेदन पत्र क्षेत्र के बाजार समिति के कार्यालय से प्राप्त करना होगा।
  • आवेदक को आवेदन पत्र के साथ दस्तावेज संलग्न करने होंगे ।
  • आवेदन पत्र को सभी दस्तावेजों के साथ अपने क्षेत्र के मार्केट कमेटी कार्यालय में जमा करें।
  • मंडी समिति द्वारा स्वीकृत आवेदन राज्य कृषि विपणन बोर्ड को भेजे जाएंगे।
  • अधिकारियों/कर्मचारियों द्वारा आवेदनों और दस्तावेजों की पूरी तरह से जांच की जाएगी।
  • आवेदन पर एक माह के भीतर निर्णय लेना अनिवार्य है।
  • यदि आवेदन स्वीकृत हो जाता है, तो लाभ राशि 15 दिनों के भीतर चेक/डिमांड ड्राफ्ट के माध्यम से आवेदक को वितरित कर दी जाएगी।
Bharat Sarkar Suvidha Home pageClick here
More updateClick here
Join our Facebook pageClick here
Join our WhatsApp groupClick here

Leave a Comment